Home चलचित्र तो क्या बॉलीवुड सिर्फ़ रीमेक्स का अड्डा बनकर रह जाएगा?

तो क्या बॉलीवुड सिर्फ़ रीमेक्स का अड्डा बनकर रह जाएगा?

by ओम लवानिया
564 views
ऐसा हम नहीं कर रहे है बल्कि बॉलीवुड के पाइप लाइन में बैठे कंटेंट बतला रहे है। कि बी-टाउन के लेखक-निर्देशकों के पास ओरिजिनल कंटेंट का अकाल है। इसलिए उन्हें साउथ इंडियन, कोरियन, स्पेनिश, अमेरिकन कंटेंट की मदद लेनी पड़ रही है।
बॉलीवुड के बड़े बड़े हीरो इन रीमेक्स का हिस्सा है। परफेक्शनिस्ट पद पर बैठे, आमिर खान मशहूर अमेरिकन फ़िल्म फारेस्ट गम्प का हिंदी वर्जन ला रहे है। महामारी का दौर न होता तो लाल सिंह नज़दीकी सिनेमाघरों में दस्तक दे चुका होता। लेकिन अभी 11 अगस्त 2022 के दिन पहुँचने वाला है। इधर, आमिर खान ने दूसरे कंटेंट की ख़बरें बॉलीवुड गलियारें में दौड़ रही है। कि शुभ मंगल सावधान फेम लेखक-निर्देशक पीएस प्रसन्ना के अगले स्पेनिश कंटेंट ‘कैम्पेनएस’ के हिंदी रीमेक में नजर आ सकते है। बातचीत अभी पाइप लाइन में है। वैसे भी आमिर खान ऐसे ही निर्देशक चुनते है। जो स्टेयरिंग तो पकड़े रखे। लेकिन गाड़ी पर कंट्रोल उनका हो। लाल सिंह में भी ऐसा ही है।
शाहरुख खान भी आमिर खान की तरह 2018 के फेर से निकलने की कोशिश में लगे पड़े है। कई किरदारों को ग्रीन सिग्नल दे चुके है। बीते दिनों यशराज फिल्म्स ने पठान की घोषणा कर दी। इसमें शाहरुख खान ख़ुफ़िया एजेंट बनेंगे। ड्रग्स माफियाओं के पीछे भागते दिखाई देंगे। साथ ही तमिल निर्देशक एटली के निर्देशन में लायन टाइटल से फ़िल्म शूट कर रहे है। सूत्रों का कहना है। कि इस फ़िल्म का प्लॉट मशहूर स्पेनिश टीवी शो मनी हेस्ट से प्रभावित है। टीवी शो के राइट्स रेड चिलीज ने काफ़ी समय पहले खरीद लिए थे।
]
जब दोनों खान रीमेक कर रहे है। तो रीमेक के ब्रांड अम्बेसडर सलमान खान कैसे पीछे रहेंगे। वे भी साजिद नाडियाडवाला द्वारा निर्मित कभी ईद कभी दीवाली में आने वाले है। इस फ़िल्म को बच्चन पांडेधारी लेखक-निर्देशक फरहाद सामजी दिशा दिखलायेंगे। (बच्चन पांडे भी साउथ के जिगरठंडा व कोरियन का मिक्स कंटेंट था) जो तमिल सुपरस्टार अजित कुमार की वीरम का हिंदी संस्करण है।
जब तीनों खान मिलकर अपने करियर को संभालने में जुटे है। तो सैफ अली खान भी तमिल कंटेंट विक्रम वेधा को उठा लिए है। साथ में डुग्गु यानी ऋतिक रोशन को भी शामिल कर लिया है।
इतने रीमेक्स में बॉलीवुड के लेखक क्या खाक सोचेंगे। इतने बड़े बड़े सुपरस्टार रीमेक कर रहे है। ट्रेंड सेट कर दिया है। (हालांकि इसमें भी स्टैंडर्ड रखा गया है। आमिर और शाहरुख स्पेनिश में है। जबकि बाकी कोरियन और साउथ के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े है।) तो शाहिद कपूर भी कबीर खान के बाद नानी की जर्सी उतरवा लिए है।
तमिल निर्देशक एस शंकर तो बकायदा रणवीर सिंह को अपरिचित से मिलवाने का ऐलान करके गए है। पुनः हिंदी में लाने वाले है।
मोहन लाल अपनी दृश्यम को सीक्वल दे चुके है। तो अजय देवगन का प्रथम कर्तव्य बनाता है। वे भी हिंदी को दृश्यम 2 देवे। फ्लोर पर है। जल्द नज़दीकी सिनेमाघरों में आने वाली है।
मास्टर, रातस्सन, अय्यप्पनम कोशीयुम, आदि कई तमिल, तेलुगु, मलयालम कंटेंट बातचीत की टेबल पर पड़े है। फाइनल राउंड है। उसके बाद फ्लोर पर चले जाएंगे। इनमें जॉन अब्राहम, सलमान खान और अक्षय कुमार हो सकते है।
बॉलीवुड रीमेक के चक्कर में फंसा है। दक्षिण भारतीय कंटेंट पैन इंडिया गदर काटने निकल रहा है। पहले पुष्पा अब ट्रिपल आर कहर बरपा रही है। ट्रिपल आर के तूफान में द कश्मीर फाइल्स जो बॉलीवुड से है। लेकिन ओरिजन कंटेंट है। मुकाबला दे रही है। धर्मा पुष्पा की सफलता देखकर अल्लु अर्जुन से मेल-जोल बढ़ा रहा है। उड़ती खबर है। कि अल्लु जल्द हिंदी डेब्यू कर सकते है।
तो वही 14 अप्रैल के दिन केजीएफ़ का चैप्टर 2 पैन इंडिया पढ़ा जाने वाला है। हिंदी बेल्ट में हिंदी कंटेंट की कतई चाह ही नहीं है इन कालजयी कंटेंट ने सब बर्बाद कर दिया। अब तो उन्हें साउथ के कंटेंट की ललक रहती है। साउथ से मूवी निकली नहीं, झपट पड़ते है।
सबसे बड़ी समस्या है। बॉलीवुड वाले रीमेक में अपना दिमाग लगाकर मूल प्रति पर बट्टा लगा देते है। बच्चन पांडे ताजातरीन मामला है।

Related Articles

Leave a Comment