Home हमारे लेखकजलज कुमार मिश्रा डरना मनुष्य का स्वभाव है। लेकिन

डरना मनुष्य का स्वभाव है। लेकिन

by Jalaj Kumar Mishra
150 views

डरना मनुष्य का स्वभाव है। लेकिन

सबसे ज्यादा जिस चीज से डर लगती है,वह अज्ञानता है।मनुष्य स्वाभाविक रूप से जब डरता है, तब वह ईश्वर की तरफ मुड़ता है।डर में हम‌ सब अपने इष्टदेव या कुल देवता की तरफ आकृष्ट होते हैं।सच कहिए तो मनुष्य को डरना सिर्फ और सिर्फ अधर्म से चाहिए।
धर्म के बिना जीवन की कल्पना संभव नही है। धर्म जीवन का आक्सीजन है।धर्म आपको आपको निडर बनाता है। तुलसी बाबा कहते है कि बिना ईश्वर के मर्जी के एक पत्ता भी नही हिलता है। इस पृथ्वी पर अगर कोई एक मात्र सत्य है तो वह मौत है। उसका आना तय है, फिर उससे क्या डरना,जब आना होगा आ जाएगी। मुसीबत के क्षण अपने आस पास जो‌‌ भी अपने‌ समान आचरण करने वाला हो उसकी मदद करना हमारा लक्ष्य होना चाहिए।
वेद कहता है कि अगर प्रकृति के अनुरुप अगर आप धर्म से विमुख होंगे तब आपको कष्ट तो उठाने ही होंगे। तुलसी बाबा लिखते है कि ‘सब सुख लहै तुम्हारी सरना,तुम रक्षक काहू को डरना’। अपने इष्टदेव की शरण में अगर आप पहुँच गये है फिर आप निश्चिंत रहिए आपका कुछ नही होगा।
‌हम सभी को विकट परिस्थितियों में प्रभु श्रीराम के जीवन चरित्र का अनुसरण करना चाहिए। जब परिस्थितियाँ आपके खिलाफ हो उस समय सिर्फ आपका धैर्य,परिणाम तय करने में निर्णायक होता है।प्रभु श्रीराम भारतीय लोक और जनमानस में जन्म से लेकर मरण तक हर रुप, हर रंग, उत्सव में मौजूद है। प्रभु श्रीराम के पास हर मुसीबत से लड़ने के लिए हौसला देते है।
लोक के कबीर जिनको आजकल वामपंथी और दलित चिंतक आत्सात करने का ढोंग रचते है वे कहते है कि
राम किया सोई हुआ, राम करै सो होय
राम करै सो होऐगा, काहे कलपै कोय।
इतना ही नही वो तो यहाँ तक कहते हैं कि
कबिरा चिंता क्या करु, चिंता से क्या होय
मेरी चिंता हरि करै, चिंता मोहि ना कोय।
सनातन संस्कृति के श्रेष्ठ ध्वजवाहक प्रभु श्रीराम आपका पुरा जीवन चरित्र ही अनुकरणीय है। उनके अवतरण दिवस पर इस पुरे जगत को हार्दिक

बधाई

और मंगलकामना।

अंत में यही कहना चाहूँगा कि गोस्वामी जी कहते है कि
भव भेषज रधुनाथ जसु सुनिंह जे नर अरू नारि।
तिन्ह कर सकल मनोरथ सिद्ध करिह त्रिसरारि।।
आप सभी सम्मानित मित्रों को रामनवमी की हार्दिक

बधाई

और अनंत शुभकामनाएँ।

।। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे।।

Related Articles

Leave a Comment