Home विषयजाति धर्म जब तनिष्क ने एक विज्ञापन में लव जेहाद को प्रमोट किया

जब तनिष्क ने एक विज्ञापन में लव जेहाद को प्रमोट किया

210 views
जब तनिष्क ने एक विज्ञापन में लव जेहाद को प्रमोट किया था। तब यह वाक्य बड़ा प्रसिद्ध हुआ कि पंचर बनाने वालों के चक्कर मे सोना खरीदने वालो से पंगा ले लिया।
उसी तर्ज पर हुंडई की पंचर बनाने वालों के चक्कर मे कार खरीदने वालो से दुश्मनी हो गयी है। हुंडई ने अपने पाकिस्तानी ट्विटर अकाउंट पर आतंकवादियो को श्रद्धांजलि दी है, इसमे तो कोई संदेह ही नही की अब हम इनकी बैंड बजाने वाले है।
तो सबसे पहले तो #boycott_hyundai को ट्रेंड कीजिये, वैसे ये पहले से ट्रेंड हो गया और हुंडई ने अपना ट्विटर अकाउंट ब्लॉक कर लिया मगर विदेशी कंपनी को सबक सीखाना आवश्यक है। जरूरत भी क्या है हमारे टाटा और महिंद्रा अभी जिंदा है हम क्यो इन्हें झेले।
हमे हुंडई का विरोध कुछ इस तरह से करना है
1) यदि आप कार खरीदने जा रहे है तो हुंडई के शोरूम जरूर जाए और उन्हें ये बताए कि आप हुंडई ही लेना चाहते थे मगर अब नही लेंगे।
2) टाटा और महिंद्रा के USPs ढूंढकर लोगो को बताइए कि ये गाड़िया हुंडई से अच्छी क्यो है?
3) अब तक हम जो करते आ रहे है वही कीजिये, रेटिंग गिरा दीजिये। कार देखो डॉट कॉम, कार्स 24 और गो मेकेनिक जहाँ कही हुंडई कारे देखे उनकी रेटिंग को नुकसान पहुँचाइए। ईमेल आईडी मैं नीचे दे रहा हु।
4) जो लिखना है लिखो मगर इतना ध्यान रखो की हमे पाकिस्तान में इनका जो भी मार्केटिंग हेड है उसकी नौकरी खानी है। इसलिए उसके बारे में जरूर मेंशन कीजिये।
नई तो नई सेकंड हैंड कारे भी बिकनी मुश्किल हो जाये इसका ध्यान रखिये। लेकिन ये नुकसान आपको सिर्फ मार्च तक करना है। कंपनियों और सेक्युलर्स में अंतर होता है, उनकी आंखें होती है वे अवलोकन करती है जब चौथी तिमाही में कम सेल दिखेगी तो हुंडई खुद लाइन पर आ जाएगी।
व्यक्ति गत स्तर पर मेरा मानना है कि ये सब हुंडई ने जानबूझकर नही किया है। कदाचित हुंडई ने पाकिस्तान में जो अपनी मार्केटिंग टीम गठित की है उसका हेड कोई जेहादी विचारधारा वाला है या फिर उसने बिना किसी दूरदर्शिता के ये जोखिम उठाया है। हमारा दुश्मन हुंडई नही है मगर हमे एक संदेश पहुँचाना है कि पाकिस्तान में या तो इन्वेस्ट मत करो और यदि करो तो हमारे हित मे अपना पैर ना फ़साओ।
sskim@hyundai.com कंपनी के सीईओ की ईमेल आईडी है जिस पर भारी मात्रा में विरोध कीजिये, किसी भी भाषा में लिखिये मगर कोई भद्दी भाषा प्रयोग मत कीजिये सिर्फ सभ्य विरोध कीजिये।
हुंडई ने इतना पैसा लगा रखा है हमे उसे भी बचाना है इसलिए बस धक्का मुक्की और थप्पड़ लगाकर छोड़ दीजिए जान से मारने का प्रयास ना करे, हमे भारत को एक साहसी मगर सहिष्णु बाजार बनाये रखना है लेकिन पाकिस्तान के मार्केटिंग हेड की नौकरी जानी चाहिए विरोध इतना तीव्र हो।

Related Articles

Leave a Comment