Home हमारे लेखकदयानंद पांडेय तो सपा 400 सीटें जीतने जा रही है

तो सपा 400 सीटें जीतने जा रही है

अनिल सिंह

226 views
मुझे लगता है उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी वास्तव में ४०३ में से ४०० सीटें जीतने जा रही है।
ज़रा भाजपा से नाराज़ मतदाताओं की सूची देखिए:
१. महिलाएं: महँगाई के कारण, तो ४९% वोट तो यूँ ही निकल गये।
२. अल्पसंख्यक: अल्पसंख्यक तो कभी भाजपा को वोट देते ही नहीं, तो १०% और निकल गये। अल्पसंख्यक महिलाओं की गिनती हम पहले ही कर चुके हैं, यहाँ केवल पुरुषों की बात की जा रही है।
३. दलित: भाजपा तो स्वभाव से ही दलित-विरोधी है, अगर ऐसा न होता तो उदित राज जैसे दलित नेता भाजपा क्यों छोड़ते? तो ११% और गये।
४. पिछड़े: पिछड़ों और अति-पिछड़ों के साथ भाजपा में हमेशा अन्याय हुआ है, जैसाकि ओमप्रकाश राजभर, स्वामीप्रसाद मौर्य और दारासिंह चौहान ने बताया है, तो २६% और गये।
५. ब्राह्मण: विकास दूबे जैसे ब्राह्मण नेता को मरवा देने के बाद भाजपा ब्राह्मणों के वोट लेने की सोच भी कैसे सकती है? २% और गये।
६. जाट, किसान, मजदूर, व्यापारी: जाट और किसान कृषि-कानूनों के कारण, मजदूर करोना के समय उनके साथ हुए दुर्व्यवहार के कारण, और व्यापारी नोटबन्दी और जीएसटी के कारण। वैसे इन सभी धन्धों में लगे व्यक्ति किसी न किसी जाति में पहले ही जोड़ लिये गये हैं, पर जो ठाकुर या लाला खेती-किसानी, मजदूरी या व्यापार में लगे हैं, मान लेते हैं कि उनकी संख्या भी कुल वोटरों की १% है, तो १% और गये।
फिर बचा कौन? केवल ठाकुर और लाला पुरुष जो खेती, मजदूरी या व्यापार नहीं करते; उनकी संख्या मुश्किल से १% होगी।
तो योगीजी को १% से ज्यादा वोट नहीं मिलने वाले हैं। अब १% में सीट क्या घण्टा जीतेंगे? अब भाजपा के लिए लड़ाई क्योंकि सीधी है, और सपा के साथ है, इसलिए यह अनुमान लगाना कठिन नहीं है कि अब जबकि मोमोता दीदी भी सपा के समर्थन में उतर आयी हैं, सपा ४०० सीटें जीतने जा रही है। बची-खुची एकाध सीटों पर बसपा, कांग्रेस और आआपा के बीच कड़ा संघर्ष देखने को मिल सकता है।
इति सिद्धम्।
ठोंको ताली।

Related Articles

Leave a Comment